अगले अंक की सामग्री

‘नान्दीपाठ’ के अगले अंक (जुलाई-सितम्बर, 2013) की प्रमुख सामग्री

मीडिया वैचारिकी

• मीडिया का राजनीतिक अर्थशास्त्र

• जनता के वैकल्पिक मीडिया को खड़ा करने की चुनौतियाँ

• पूँजीवाद का संकट और ‘सुपर हीरो’ की वापसी

अभिलेख

• थियोडोर अडोर्नो का लेख ‘संस्कृति उद्योगः एक पुनर्विचार’

टेलीविज़न समीक्षा

• बच्चों के टेलीविज़न कार्यक्रमों के ज़रिये वर्चस्व स्थापित करने का साम्राज्यवादी एजेण्डा

फ़िल्म समीक्षा

• तारकोव्स्की की फिल्म ‘सोलारिस’ की समीक्षा

• हिन्दी फिल्म ‘ओह माई गॉड’ की समीक्षा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two + twenty =