नान्‍दीपाठ-3, अप्रैल-जून 2016

नान्‍दीपाठ-3, अप्रैल-जून 2016

नान्‍दीपाठ-3 की पीडीएफ डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें। अलग-अलग लेखों को यूनिकोड फॉर्मेट में आप नीचे दिये गये लिंक्स से पढ़ सकते हैं।

Naandipath-3-Cover-1

हमारी बात

क्या हमारे देश के जनपक्षधर संस्कृतिकर्मी आसन्न युद्ध के लिए तैयार हैं?

अभिलेख

बर्बरता के विरुद्ध संघर्ष पर एक ज़रूरी अवलोकन – बेर्टोल्ट ब्रेष्ट

सिनेमा वैचारिकी

पूँजीवाद का संकट और ‘सुपर हीरो’ व ‘एंग्री यंग मैन’ की वापसी (दूसरी क़िस्त) – अभिनव सिन्हा

मीडिया वैचारिकी

पूँजीवाद में विज्ञापनों की विचारधारा और पूँजीवादी विचारधारा का विज्ञापन – शिवानी

संगीत

एक नयी संगीत संस्कृति के निर्माता – हान्स आइस्लर

साहित्य जगत

साहित्य में अवसरवादी घटाटोप के सामाजिक-आर्थिक कारण – कविता कृष्णपल्लवी

उद्धरण – नान्‍दीपाठ-3, अप्रैल-जून 2016

स्‍त्री प्रश्न

स्त्री प्रश्न: परम्परा, आधुनिकता और उत्तर-आधुनिकता के सन्दर्भ में एक विमर्श – कात्यायनी

सामयिकी

कला-संस्कृति, शिक्षा एवं अकादमिक जगत पर भगवा फासिस्टों का बर्बर हमला – आनन्द सिंह

नवसाम्राज्यवाद की रणनीति, लाभरहित संस्थाओं के विखण्डित जनान्दोलन और नोबल पुरस्कारों के निहितार्थ – मीनाक्षी

One comment on “नान्‍दीपाठ-3, अप्रैल-जून 2016

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 3 =